दुमका में हार के बाद घर वापसी की तैयारी में सीता सोरेन!

नलिन सोरेन का दावा स्वागत, लेकिन फैसला नेतृत्व का होगा

दुमका में हार के बाद घर वापसी की तैयारी में सीता सोरेन!
सीता सोरेन (फोटो- ट्विटर)

रांची: लोकसभा चुनाव के बाद झारखंड भाजपा की सेहत कुछ ठीक नहीं चल रही. एक तरफ देवघर (अनुसूचित आरक्षित सीट) से भाजपा विधायक नारायण दास ने यह दावा कर सियासी गलियारों में भूचाल ला दिया है कि गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे के गुंडों ने समीक्षा बैठक के दौरान उनका कॉलर पकड़, मां-बहन की गालियों की बौछार की, दूसरी तरफ दुमका से हार के बाद सीता सोरेन ने यह दावा कर सनसनी फैला दी है कि उनकी हार में सबसे अहम किरदार उन भाजपा नेताओं का है, जिनके कंधों पर जीत की जिम्मेवारी सौंपी गयी थी.

सीता सोरेन साफ तौर भी अपनी हार के लिए दुमका विधानसभा से पूर्व विधायक लुईस मरांडी, सारठ विधायक रणधीर सिंह और दुमका से पूर्व सांसद सुनील सोरेन को जिम्मेवार बता रही है. साथ ही प्रदेश नेतृत्व पर भी बदइंतजामी का आरोप मढ़ रही है. लेकिन इन सबके बीच दुमका के अखाड़े में सीता सोरेन को शिकस्त देने वाले नव निर्वाचित सांसद नलिन सोरेन ने यह बयान देकर सियासी गलियारों में अटकलों का बाजार गर्म कर दिया है कि पार्टी के दरवाजे सबके लिए खुले हैं, वह सीता सोरेन हो लोबिन हेम्ब्रम, लेकिन जो भी फैसला होगा, वह पार्टी नेतृत्व का होगा.


नलिन सोरेन के बयान को सियासी चश्मे से देखने की कोशिश

 

यह भी पढ़ें कोडरमा के दो हिंदू परिवार सौ वर्षों से निकाल रहे ताजिया

जैसे ही नलिन सोरेन का यह बयान सामने आया, सियासी गलियारों में इसके मायने समझने की कोशिश शुरु हो गयी. यह सवाल गहराने लगा कि जिस तरीके से सीता सोरेन भाजपा नेताओं के उपर अपनी हार का ठीकरा फोड़ रही है, क्या इसके पीछे भी कोई सियासत है? क्या सीता सोरेन विधानसभा चुनाव के पहले घर वापसी की तैयारी में है? और इसी रणनीति के तहत जानबूझ कर भाजपा के सामने असहज परिस्थतियां पैदा कर रही है? दरअसल यह सवाल इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि जिस तरीके लोकसभा चुनाव में आदिवासी बहुल सभी पांच सीटों से भाजपा का सफाया हुआ, उसके बाद सीता सोरेन को भाजपा का पट्टा पहनाने वाले बाबूलाल मरांडी की सियासत भी फंसती नजर आ रही है.

यह भी पढ़ें बासुकीनाथ धाम में राजकीय श्रावणी मेला का उद्घाटन पेयजल व स्वच्छता मंत्री ने किया

यह सवाल सुलगता दिख रहा है कि क्या विधानसभा चुनाव के पहले पार्टी किसी नये नेतृत्व को सामने लायेगी? क्या खूंटी में हार के बाद अर्जुन मुंडा को एक बार फिर से झारखंड की सियासत में सक्रिय किए जाने की तैयारी है? या एक बार फिर से रघुवर राज की वापसी होने वाली है?  इस सियासी उहापोह के बीच निश्चित रुप से सीता सोरेन के सामने भी अपने भविष्य का सवाल खड़ा हो रहा होगा. खास कर उस स्थिति में जब चंद महीनों के अंदर-अंदर विधान सभा का चुनाव होना है. जामा विधान सभा, जहां से सीता सोरेन लगातार तीन बार से विधायक है, लेकिन 2005 के बाद से आज तक भाजपा अपना कमल खिलाने  में नाकामयाब रही, क्या उस जामा में सीता सोरेन कमल खिला पायेगी? और यदि दुमका के बाद जामा में भी सियासी शिकस्त का सामना करना पड़ता है, तो फिर सियासी भविष्य क्या होगा?

यह भी पढ़ें अनुबंध कर्मियों ने हेमंत सरकार को दी आंदोलन की चेतावनी, समान काम का समान वेतन सिद्धांत लागू करने की मांग 


सीता सोरेन की घर वापसी के अटकलों को लगा पंख


और यहीं सीता सोरेन की घर वापसी के अटकलों को पंख लगता दिखता है. क्योंकि परिस्थितियां कुछ इस हिसाब से  बन रही है कि जिसके बाद सीता सोरेन का भाजपा में कोई सियायी भविष्य नजर नहीं आ रहा. हालांकि सीता सोरेन का वास्तविक इरादा क्या है, अभी कुछ भी कह पाना मुश्किल है. हालांकि नलिन सोरेन ने इसके साथ ही लोकसभा चुनाव के दौरान किसी भी भाजपा नेता से सम्पर्क से साफ इंकार किया, उन्होंने कहा कि राजनीति में हार-जीत बेहद सामान्य-सी प्रक्रिया है, अब हमारी जीत को भाजपा किस रुप में देखती है, इसके उनका कोई लेना-देना नहीं है. लेकिन यदि कोई भाजपा छोड़ पार्टी में आना चाहता है, तो उसका स्वागत है.  

 

यह भी पढ़ें कोडरमा के दो हिंदू परिवार सौ वर्षों से निकाल रहे ताजिया

Edited By: Samridh Jharkhand

Latest News

बासुकीनाथ धाम में राजकीय श्रावणी मेला का उद्घाटन पेयजल व स्वच्छता मंत्री ने किया बासुकीनाथ धाम में राजकीय श्रावणी मेला का उद्घाटन पेयजल व स्वच्छता मंत्री ने किया
चाय मजदूरों की न्यूनतम मजदूरी के मुद्दे पर पीबीसीएमएस की याचिका पर होगी सुनवाई
रवि प्रकाश: कैंसर से लड़ता, मेडिकल साइंस में इतिहास रचता एक शख्स
कोडरमा के दो हिंदू परिवार सौ वर्षों से निकाल रहे ताजिया
अपना अधिकार मांगेगा थीम पर झारोटेफ का 18 जुलाई से होगा कार्यक्रम शुरू
बिहार में पॉपलर की खेती को बढावा देने के लिए किसानों को यमुनानगर मंडी का परिभ्रमण कराने की मांग
अनुबंध कर्मियों ने हेमंत सरकार को दी आंदोलन की चेतावनी, समान काम का समान वेतन सिद्धांत लागू करने की मांग 
देश के कई हिस्सों में भारी बारिश ने बढाई परेशानी, गोंडा में बाढ जैसे हालात, राहत कार्य जारी
विदेशी ताकतें भाजपा को हराने के लिये हर स्तर से लगी है: गीता कोड़ा
पांच दिवसीय गैर आवासीय विद्यालय नेतृत्व उन्मुखीकरण कार्यशाला
ईचा डैम रद्द करने को लेकर संघ ने मंझगांव विधायक को सौंपा मांग पत्र
ॐ ह्रीं विपत्तारिणी दुर्गायै नम: के मंत्रोच्चार से गुंजायमान हुआ शहर