दर्जनों झूठे केस में 11 बार जाना पड़ा जेल, चार बार सीसीए लगाकर किया तड़ीपार: जॉन मिरन मुण्डा

सीसीए हटाने व मामले की जांच कराने को लेकर राष्ट्रपति को लिखा पत्र 

दर्जनों झूठे केस में 11 बार जाना पड़ा जेल, चार बार सीसीए लगाकर किया तड़ीपार: जॉन मिरन मुण्डा
जॉन मिरन मुण्डा के द्वारा लिखा गया पत्र

जॉन मिरन मुंडा ने यह भी कहा कि मैं आदिवासी होने और टाटा रूंगटा जैसे कंपनियों से मजदूर हित में आंदोलन करने का सजा भुगत रहा हूँ। आज भी जिला के आदिवासी लकड़ी पत्ता बेचने को मजबूर हैं। 

चाईबासा: जॉन मिरन मुंडा जिला परिषद सदस्य झींकपानी ने पिछले करीब 3 माह से सीसीए से तड़ीपार में हैं ने देश के महामहिम राष्ट्रपति, माननीय मुख्य न्यायाधीश नई दिल्ली, मुख्य न्यायधीश रांची, अध्यक्ष मानाव अधिकार आयोग राँची, अध्यक्ष अनुसूचित जनजाति आयोग दिल्ली को सीसीए से मुक्त करने और सभी केस को जांच करने का मांग किया है। जॉन मिरन मुंडा ने पत्र में लिखा है कि मैं मजदूर का बेटा हूँ और एलएलबी तक पढ़ाई किया हूँ। मैंने नेलशन मंडेला, महात्मा गांधी और बिरसा मुंडा को आदर्श मानकर हमेशा देश का संविधान और लोकतंत्र के तहत आंदोलन किया है। 

एसीसी कंपनी से वर्ष 2003 से मजदूर आंदोलन किया कंपनी कई बार पैसों का लोभ दिया लेकिन जब कंपनी ने देखा कि इसको नहीं खरीद सकते हैं तो साजिश के तहत कई झूठा आरोप लगाकर जेल भेजा। जिस फोन से धमकी मिला उस नंबर पर झींकपानी थाना में एफआईआर भी वर्ष 2008 में किया लेकिन इसपर कोई काम नहीं हुआ। जिसका नतीजा आज मेरे ऊपर 27 झूठा केस दर्ज होकर 11 बार जेल जाना पड़ा और 4 बार सीसीए लगा कर तड़ीपार किया गया। मुझे लोकसभा चुनाव से पहले राजनीतिक साजिश के तहत सीसीए लगाकर तड़ीपार किया गया। 

 

मैने माननीय उच्च न्यायालय रांची में अपील किया और 2 साल सजा में बारी होकर उड़ीसा के क्योंझर से चुनाओ लड़ा और जनता ने 32000 वोट देकर मेरे विचार को समर्थन दिया। चुनावों के बाद उपायुक्त चाईबासा से कई बार सीसीए से मुक्त करने का आवेदन दिया लेकिन इसपर कोई कार्यवाही नहीं हुई। जॉन मिरन मुंडा ने यह भी कहा कि मैं आदिवासी होने और टाटा रूंगटा जैसे कंपनियों से मजदूर हित में आंदोलन करने का सजा भुगत रहा हूँ। आज भी जिला के आदिवासी लकड़ी पत्ता बेचने को मजबूर हैं। 

यह भी पढ़ें बिहार में पॉपलर की खेती को बढावा देने के लिए किसानों को यमुनानगर मंडी का परिभ्रमण कराने की मांग

जनप्रतिनिधि टाटा कंपनी के पैसो पर राजनीति कर रहे हैं और अपना सिर्फ बैंक बैलेंस बढ़ा रहे हैं। एक तरफ आदिवासी बंदूक के दम पर मुक्ति के लिए पुलिस और सीआरपीएफ के बीच खून के प्यासा बने हुए हैं और संविधान और लोकतंत्र को मानने वाला को तड़ीपार किया जा रहा है। आगामी विधानसभा चुनाव में मैं चाईबासा सदर से चुनाव लडूंगा और पूरे झारखंड में 40 जगहों से उम्मीदवार उतारूंगा। इसलिए सभी महामहिम और माननीय से नम्र निवेदन है कि सीसीए से मुक्त कराया जाए और सभी केस को जांच किया जाए।

यह भी पढ़ें अनुबंध कर्मियों ने हेमंत सरकार को दी आंदोलन की चेतावनी, समान काम का समान वेतन सिद्धांत लागू करने की मांग 

Edited By: Samridh Jharkhand

Latest News

बासुकीनाथ धाम में राजकीय श्रावणी मेला का उद्घाटन पेयजल व स्वच्छता मंत्री ने किया बासुकीनाथ धाम में राजकीय श्रावणी मेला का उद्घाटन पेयजल व स्वच्छता मंत्री ने किया
चाय मजदूरों की न्यूनतम मजदूरी के मुद्दे पर पीबीसीएमएस की याचिका पर होगी सुनवाई
रवि प्रकाश: कैंसर से लड़ता, मेडिकल साइंस में इतिहास रचता एक शख्स
कोडरमा के दो हिंदू परिवार सौ वर्षों से निकाल रहे ताजिया
अपना अधिकार मांगेगा थीम पर झारोटेफ का 18 जुलाई से होगा कार्यक्रम शुरू
बिहार में पॉपलर की खेती को बढावा देने के लिए किसानों को यमुनानगर मंडी का परिभ्रमण कराने की मांग
अनुबंध कर्मियों ने हेमंत सरकार को दी आंदोलन की चेतावनी, समान काम का समान वेतन सिद्धांत लागू करने की मांग 
देश के कई हिस्सों में भारी बारिश ने बढाई परेशानी, गोंडा में बाढ जैसे हालात, राहत कार्य जारी
विदेशी ताकतें भाजपा को हराने के लिये हर स्तर से लगी है: गीता कोड़ा
पांच दिवसीय गैर आवासीय विद्यालय नेतृत्व उन्मुखीकरण कार्यशाला
ईचा डैम रद्द करने को लेकर संघ ने मंझगांव विधायक को सौंपा मांग पत्र
ॐ ह्रीं विपत्तारिणी दुर्गायै नम: के मंत्रोच्चार से गुंजायमान हुआ शहर