Breaking News

किसानों का आज संसद भवन के सामने प्रदर्शन, कांग्रेस ने दिया समर्थन, हरसिमरत का संसद में प्रदर्शन

नयी दिल्ली : किसान संगठनों गुरुवार को दिल्ली में संसद भवन के सामने प्रदर्शन प्रस्तावित है। किसान संगठनों ने तय किया है कि 200 किसान आज संसद के आगे कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। इसके लिए वे जंतर-मंतर से पैदल जाएंगे, लेकिन किसाना नेताओं ने पुलिस प्रशासन पर समय बर्बाद करने का आरोप लगाया है।

किसान नेता मंजीत सिंह राय ने सिंघु बॉर्डर पर कहा है कि पुलिस जानबूझ कर यहां घुमा रही है। ये हमारा समय बर्बाद कर रहे हैं। हमारा रूट पहले से तय था। बसों के जरिए सिंघु बार्डर से जंतर मंतर तक जाना था फिर उतरकर पार्लियामेंट जाना था, लेकिन कह रहे हैं कॉलोनी से जाएं। उन्होंने कहा कि इतने पुलिस बल की जरूरत नहीं थी। उन्होंने कहा कि पुलिस जहां हमें रोकेगी हम वहीं अपनी संसद लगाएंगे, जिन किसानों के आइकार्ड बन गए हैं, वे आगे जाएंगे।


इस बीच न्यूज एजेंसी एएनआइ ने खबर दी है कि कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए किसान बसों से सिंधु बॉर्डर से जंतर मंतर पहुंच गए हैं।

उधर, कृषि कानून के मुद्दे पर केंद्र सरकार से बाहर हुईं शिरोमणि अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर ने आज संसद में प्रदर्शन किया। उन्होंने इस दौरान कहा कि मोदी सरकार किसान विरोधी है। किसान पिछले 8 महीनों से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार कहती है कि किसान हमसे बात करें लेकिन क़ानून वापस नहीं होंगे। जब आप ने कृषि क़ानून वापस नहीं लेने है तो किसान आपसे क्या बात करेंगे।


संसद परिसर में गांधी प्रतिमा के सामने कृषि कानून के खिलाफ कांग्रेेस ने भी आज प्रदर्शन किया और उसमें राहुल गांधी शामिल हुए। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, कांग्रेस पार्टी किसानों के प्रदर्शन और आंदोलन का पूर्ण रूप से समर्थन करती है और इस मुद्दे पर सदन में चर्चा हो, इसके लिए मैंने स्थगन प्रस्ताव को सदन के स्पीकर को दिया है।


वहीं, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, हमने किसानों से नए कृषि क़ानूनों के संदर्भ में बात की है। किसानों को कृषि क़ानूनों के जिस भी प्रावधान मे आपत्ति हैं वे हमें बताए, सरकार आज भी खुले मन से किसानों के साथ चर्चा करने के लिए तैयार है।

यह भी देखें