Human Trafficking

रांची : झारखंड सरकार के महिला, बाल विकास एवं सामाजिक सुरक्षा विभाग ने राज्य के नौ जिलों में बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष की नियुक्ति की अधिसूचना जारी कर दी है। राज्य सरकार ने बोकारो, चतरा, देवघर, गुमला, हजारीबाग, लातेहार, लोहरदगा, पाकुड़ व पलामू की बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति की है।

मानव तस्कर पन्नालाल के कार्यक्रमों में झारखंड के नेता व मंत्री भी शामिल होते थे। पन्नालाल जिन परिवारों को घरेलू काम के लिए लड़कियां देता था, उससे 40 से 50 हजार रुपये वार्षिक कमीशन वसूलता था। प्रभात खबर अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, उससे की जा रही पूछताछ के दौरान ये जानकारियां मिली हैं।

रांची : झारखंड में मानव तस्करी के अत्यधिक मामलों के मद्देनजर सभी जिलों में एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट खोलने की तैयारी है। इसका उद्देश्य बच्चियों, महिलाओं व नाबालिगों की तस्करी को रोकना है। झारखंड में फिलहाल 12 जिलों के अलग-अलग थाने में मानव तस्करी निरोधी यूनिट कार्यरत है, जो राज्य के रांची, खूंटी, सिमडेगा, पलामू,

मानव तस्करी की शिकार झारखंड की दो युवतियों एवं 8 बच्चों को दिल्ली में मुक्त कराया गया है। उन्हें पुनार्वास के लिए झारखंड लाया जा रहा है। मुक्त कराए गए  सभी बालक बालिकाओं को गरीब रथ स्पेशल ट्रेन से नई दिल्ली से रांची भेजा जा रहा है।

रांची: मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन रविवार को कांके रोड स्थित मुख्यमंत्री आवासीय कार्यालय से “प्रोजेक्ट शिशु” के अंतर्गत कोविड-19 महामारी के दौरान अनाथ हुए बच्चों के पुनर्वास हेतु झारखंड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण (झालसा) द्वारा आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि सम्मिलित हुए। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि “प्रोजेक्ट शिशु” के

लातेहार: राज्य एक ओर कोरोना महामारी से जूझ रहा है. वहीं दूसरी ओर मानव तस्करी (human trafficking) की मामला जोरों पर है. रोजगार दिलाने के नाम पर लड़कियों को बहला-फुसलाकर दूसरे राज्य भेजने के लगातार फिराक में लगे हैं ये तस्कर. मिली जानकारी के अनुसार लातेहार जिला (Latehar District) के बालूमाथ थाना से स्थानीय पुलिस

लातेहार: कोरोना महामारी (Corona epidemic) ने अपनी असर से हर क्षेत्र को प्रभावित किया है. इसके कारण कितने लोगों की रोजगार चला गया है. अपने-जीवन यापन के लिए लोग राज्य छोड़कर दूसरे राज्य में पलायन (Getaway) कर रहे हैं. रोजगार दिलाने के नाम पर राज्य से लगातार मानव तस्करी की मामला पहले भी सामने आया

झारखंड से बाल तस्करी की घटनाएं अक्सर सामने आती हैं. बावजूद इसके यहां उनके अधिकारों के लिए गठित की गयी विभिन्न प्रकार की सरकारी निकायें बदहाल हैं. पढिए यह विशेष आलेख : ब्रजेश कुमार मिश्र रांची : अगर देश में चुनाव आयोग न हो, तो क्या आप चौंक जाएंगे? इस संवैधानिक निकाय के नहीं होने

खूँटी: मानव तस्करी की शिकार लड़कियों को झारखंड पुलिस ने सफलता पूर्वक बचा लिया है। खूँटी जिला से कई शिकायतें मिली थी, जिसमें नौकरी के नाम पर प्लेसमेंट एजेंसियों द्वारा लड़कियों को गायब कर दिया है। दरअसल, जानकारी के मुताबिक झारखंड में काम कर रही कई प्लेसमेंट एजेंसियां प्लेसमेंट के नाम पर नाबालिग लड़कियों को दिल्ली

आइआइएम, रांची ने आयोजित किया जागरूकता सह रैली कार्यक्रम झारखंड में बाल तस्करी बड़ी जटिल समस्या राँची : एनएचआरसीसीबी के राष्ट्रीय अध्य्क्ष डॉ रणधीर कुमार ने भारतीय प्रबंध संस्थान, राँची के द्वारा आयोजित जागरूकता सह रैली में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए. इस एक दिवसीय रैली के आयोजन का मुख्य उद्देश्य झारखंड में