Breaking News

caste census

बिहपुर (भागलपुर) : सामाजिक न्याय आंदोलन बिहार, फुले अंबेडकर युवा मंच और बहुजन स्टूडेंट्स यूनियन बिहार के संयुक्त बैनर तले बिहपुर के रेलवे सामुदायिक भवन में आज (13.06.2022) बढ़ते मनुवादी-सांप्रदायिक हमले व कॉरपोरेट कब्जा के खिलाफ बहुजन दावेदारी सम्मेलन आयोजित किया गया। इस मौके पर पूर्व राज्यसभा सदस्य अली अनवर अंसारी ने कहा कि केंद्र सरकार

सामाजिक न्याय आंदोलन के बैनर तले भागलपुर में सम्मेलन का आयोजन भागलपुर : सामाजिक न्याय आंदोलन, बिहार के बैनर तले आज भागलपुर के वृंदावन विवाह स्थल, लहेरी टोला में सामाजिक न्याय पर बढ़ते हमले के खिलाफ व जातिवार जनगणना की मांग को लेकर विशाल सम्मेलन आयोजित किया गया। बिहार-यूपी के दिग्गज राजनीतिकर्मी, बुद्धिजीवी व समाजकर्मी

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने जातिगत जनगणना की मांग उठाते हुए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है। मालूम हो कि राष्ट्रीय जनता दल, जनता दल यूनाइटेड, झारखंड मुक्ति मोर्चा, समाजवादी पार्टी सहित कई क्षेत्रीय दल लगातार केंद्र सरकार से 2021 की जनगणना जातीय आधार पर करने की मांग कर रहे हैं।

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र तीन सितंबर, दिन शुक्रवार से शुरू होने वाला है। कोविड की दूसरी लहर के बाद आयोजित हो रहे इस सत्र में सत्तापक्ष झामुमो-कांग्रेस व विपक्ष भाजपा के बीच विभिन्न मुद्दों पर तकरार होने के पूरे आसार हैं। इस सत्र के दौरान निजी क्षेत्र की नौकरियों में स्थानीयों को आरक्षण, जातिगत जनगणना की मांग जैसे मुद्दे भी अहम हैं।

जातीय जनगणना के मसले पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार के 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। दिल्ली में पीएम मोदी से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री ने दिल्ली में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि सभी लोगों ने पीएम मोदी के समक्ष एक.एक बातें रखी है।

नरेंद्र मोदी सरकार के लिए जातिगत जनगणना की मांग एक चुनौती बन गयी है। एनडीए के अहम सहयोगी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बाद कई प्रमुख नेताओं ने इस आशय की मांग की है। अब भाजपा की सांसद संघमित्रा मौर्य ने भी जातिगत जनगणना की मांग उठा दी है। उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव ऐ ऐन पहले अपनी ही सांसद द्वारा ऐसी मांग से भाजपा के सामने असहज स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

पटना/वाराणसी/भागलपुर : बिहार-यूपी के कई एक संगठनों और बुद्धिजीवियों व सामाजिक कार्यकर्ताओं ने आज के दिन को राष्ट्रीय ओबीसी दिवस घोषित करते हुए जातिवार जनगणना सहित अन्य मांगों पर सड़क पर उतरने का आह्वान किया था, जिसको लेकर प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र बनारस से भागलपुर तक अच्छी तादाद में बहुजन समाज और प्रगतिशील नागरिक सड़क

बिहार की नीतीश सरकार भाजपा के समर्थन पर टिकी है। ऐसे में जातिगत गणना पर जदयू के अधिक जोर देने से दोनों दलों के रिश्ते में खटास बढ सकती है...