Breaking News

लालू का केंद्र पर वार, सांप-बिच्छू, हाथी-घोड़ा, कुत्ता-बिल्ली सबकी गणना कराएंगे, लेकिन जाति की क्यों नहीं?

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने जातिगत जनगणना की मांग उठाते हुए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है। मालूम हो कि राष्ट्रीय जनता दल, जनता दल यूनाइटेड, झारखंड मुक्ति मोर्चा, समाजवादी पार्टी सहित कई क्षेत्रीय दल लगातार केंद्र सरकार से 2021 की जनगणना जातीय आधार पर करने की मांग कर रहे हैं।

Source-Google Image

पटना : राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने जातिगत जनगणना की मांग उठाते हुए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है। मालूम हो कि राष्ट्रीय जनता दल, जनता दल यूनाइटेड, झारखंड मुक्ति मोर्चा, समाजवादी पार्टी सहित कई क्षेत्रीय दल लगातार केंद्र सरकार से 2021 की जनगणना जातीय आधार पर करने की मांग कर रहे हैं।

लालू प्रसाद यादव ने शुक्रवार को एक ट्वीट कर कहा, जनगणना में साँप-बिच्छू, तोता-मैना, हाथी-घोड़ा, कुत्ता-बिल्ली, सूअर-सियार सहित सभी पशु-पक्षी, पेड़-पौधे गिने जाएँगे लेकिन पिछड़े-अतिपिछड़े वर्गों के इंसानों की गिनती नहीं होगी। वाह!

लालू प्रसाद यादव ने आगे लिखा भाजपा-आरएसएस को पिछड़ों से इतनी नफरत क्यों है? लालू प्रसाद यादव ने कहा कि जातीय जनगणना से सभी वर्गाें का भला होगा। सबकी असलीयत सामने आएगी।

लालू प्रसाद यादव ने अगले ट्वीट में लिखा : भाजपा-आरएसएस पिछड़ा-अतिपिछड़ा वर्ग के साथ बहुत बड़ा छल कर रहा है। अगर केंद्र सरकार जनगणना फ़ॉर्म में एक अतिरिक्त कॉलम जोड़कर देश की कुल आबादी के 60 फ़ीसदी से अधिक लोगों की जातीय गणना नहीं कर सकती तो ऐसी सरकार और इन वर्गों के चुने गए सांसदों व मंत्रियों पर धिक्कार है। इनका बहिष्कार हो।

मालूम हो पिछले दिनों बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर जातिगत जनगणना की मांग की थी। इस प्रतिनिधिमंडल में राजद नेता तेजस्वी यादव भी शामिल थे।

उधर, झारखंड सरकार ने भी केंद्र से जातिगत जनगणना कराने की मंाग की है। कुछ राजनीतिक दल केंद्र द्वारा इसके लिए राजी नहीं होने पर राज्य से अपने पैसे से जातिगत जनगणना कराने की मांग कर रहे हैं।