Breaking News

झारखंड: डायन कुप्रथा के अजगर ने फिर से निगला एक और मासूम को

डायन के संदेह में 45 वर्षीय बसंती गोप की हत्या उनके भतीजे ने पत्थर से कूचकर कर दी।

प्रतिकात्मक चित्र google image

समृद्ध डेस्क: राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में डायन प्रथा के उन्मूलन के लिए जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। डायन कहकर महिलाओं को पीट कर मार देना और समाज से वर्गीकृत कर देना बहुत ही क्रूरता पूर्ण कृत्य है । सरकार इस ओर लोगों को जागरूक करने का प्रयास तो  कर रही है साथ ही ऐसे पीड़ितों को पुनर्वास और कानून से पूरी मदद दिलाने के लिए भी कार्य कर रही है।  फिर भी यह कुरीति इतनी व्याप्त हो चुकी है कि आए दिन यह अपने दंस से किसी न किसी को प्रभावित कर ही देती है।

जानकारों की मानें तो सही मायने में इस प्रकार के मामले आपसी विवाद, जमीनी विवाद आदि के वजह से ही होते हैं जिसका डायन के रूप में दिखाकर अपने स्वार्थ के लिए हत्या जैसे घोर अपराध कर दिए जाते हैं।  ऐसा ही एक मामला पश्चिमी सिंहभूम के मझगांव थाना इलाके में सामने आई ।  डायन के संदेह में 45 वर्षीय बसंती गोप की हत्या उनके भतीजे ने पत्थर से कूचकर कर दी। हत्या कर बसंती गोप के शव को खेत में फेंक दिया।

घोड़ाबांधा गांव की बसंती अपने 10 वर्षीय बेटी लालमति के साथ गुरुवार की शाम जब खेत से लौट रही थी, उसी दौरान उनके  भतीजा विदेशी गोप ने अचानक हमला कर दिया। घटनास्थल से लालमती अपनी जान बचकर गांव आयी वहाँ लोगों को  हत्या के बारे में जानकारी दी । गांव के लोगों ने बताया कि 3 साल पूर्व भी उनके भतीजा विदेशी के द्वारा डायन के आरोप लगाने पर विवाद हुआ था। उस मामले को गांव में मिल बैठकर सुलझा लिया गया था। लेकिन बीच-बीच में विदेशी के द्वारा गांव में हमेशा चर्चा की जाती थी कि बसंती डायन  का काम जानती है और हमारे परिवार को नुकसान पहुंचाना चाहती है।

घटना के बारे में गांव के ग्रामीणों ने मझगांव पुलिस को सूचना दी पुलिस शव का पंचनामा कर  मृतक की बेटी व पति के बयान के आधार पर दोनों आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है । शव को शुक्रवार सुबह पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया वहीं पुलिस सभी मामलों पर बारीकी से जांच कर रही है।

यह भी देखें