कन्हैया कुमार कांग्रेस में शामिल हुए, जीग्नेश मेवाणी कांग्रेस से जुड़े पार्टी में बाद में होंगे शामिल

सीपीआइ नेता कन्हैया कुमार व गुजरात के युवा नेता जीग्नेश मेवाणी कांग्रेस से जुड़ गए। कन्हैया ने पार्टी की सदस्यता ले ली लेकिन कुछ तकनीकी वजहों से जिग्नेश कुछ महीनों बाद पार्टी की सदस्यता लेंगे, हालांकि वे पार्टी से जुड़ कर उसके लिए काम करते रहेंगे। दोनों ने मंगलवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और पार्टी से जुड़ने पर सहमति दी।

कन्हैया कुमार व जीग्नेश मेवाणी कांग्रेस नेताओं के साथ। एएनआइ फोटो।

नयी दिल्ली : सीपीआइ नेता कन्हैया कुमार व गुजरात के युवा नेता जीग्नेश मेवाणी कांग्रेस से जुड़ गए। कन्हैया ने पार्टी की सदस्यता ले ली लेकिन कुछ तकनीकी वजहों से जिग्नेश कुछ महीनों बाद पार्टी की सदस्यता लेंगे, हालांकि वे पार्टी से जुड़ कर उसके लिए काम करते रहेंगे। दोनों ने मंगलवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और पार्टी से जुड़ने पर सहमति दी। इसके बाद कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल व मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने दोनों युवा नेताओं ने एक प्रेस कान्फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी।

कन्हैया कुमार ने कांग्रेस में शामिल होने के बाद कहा कि कांग्रेस वह पार्टी है जो गांधी व सरोजनी नायडू के विचारों को लेकर चलती है। कन्हैया कुमार ने कहा कि अगर बड़े जहाज को नहीं बचाया गया तो छोटी-छोटी कश्तियां भी नहीं बचेंगी। उन्होंने कहा कि देश में 200 ऐसी लोकसभा सीटें हैं जहां भाजपा के सामने कांग्रेस के अलावा कोई विकल्प नहीं है।

उन्होंने कहा कि वे जिस पार्टी में पले-बढे उसको धन्यवाद देते हैं कि उसने सीखाया। उन्होंने कहा कि हमलोगों के आंदोलन के समर्थन में दोस्तियां टूट गयीं और तलाक हो गया। उन्होंने कहा कि जो वैचारिक संघर्ष छिड़ा हुआ है, उसमें कांग्रेस पार्टी ही नेतृत्व दे सकती है। उन्होंने कहा कि दीवार पर बैठ कर टुकुर-टुकुर देखने का वक्त नहीं है, यह सोचने का वक्त नहीं है कि दायां जाएं या बायां जाएं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस बचेगी तो गांधी की मीमांसा बचेगी और बाबा साहेब के विचारों के अनुरूप भारत का निर्माण हो सकेगा।

कन्हैया कुमार ने कहा कि यह परिवार संघ परिवार नहीं है, वह परिवार क्या जो परिवार को छोड़ कर परिवार बनाए। उन्होंने कहा कि गांधी जी कस्तूरबा गांधी को साथ लेकर अंग्रेजों से लड़ गए। उन्होंने देश के लाखों करोड़ों कार्यकर्ताओं का शुक्रिया।

जीग्नेश मेवाणी ने कहा कि पिछले छह-सात सालों में गुजरात से जो कहानी शुरू हुई उसने उत्पात मचाया। उन्होंने कहा कि सोची-समझी साजिश के तहत दिल्ली व नागपुर मिलकर ऐसी भावना फैला रही है कि भाई-भाई से नफरत करे। उन्होंने कहा है कि हमें उनके साथ खड़े रहना है जिसने आजादी की लडाई में ने सिर्फ योगदान दिया बल्कि उसका नेतृत्व किया।

जीग्नेश मेवाणी ने कहा कि वे कुछ तकनीकी कारणों से अभी कांग्रेस में शामिल नहीं हो सकते, क्योंकि वे दूसरी पार्टी के टिकट पर विधायक बने हैं और जनता का प्रतिनिधित्व अभी विधानसभा में करना है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने उनसे कहा कि पार्टी में शामिल होने की कागजी कार्रवाई बाद में भी कर लेना लेकिन अभी जुड जाओ। उन्होंने लोगों व युवाओं से अपील की कि वे देश के लिए कांग्रेस में शामिल हो जाएं।

यह भी देखें