अस्पताल में ताला लटका देख विधायक बैठे धरना पर…

गिरिडीह(गावां) । धनवार विधायक राजकुमार यादव शुक्रवार को क्षेत्र भ्रमण के दौरान पिहरा में स्थित अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर ताला लटका देख भड़क गए व अस्पताल गेट पर धरना पर बैठ गए। बता दें कि पिहरा का अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में डॉक्टर समेत चिकित्सा कर्मियों की स्थाई नियुक्ति नहीं रहने के कारण यह केन्द्र वर्षों से बंद पड़ा हुआ है। हलांकि सरकारी रिकॉर्ड में यह अस्पताल का संचालन नियमित हो रहा था। शुक्रवार को जब विधायक ने केन्द्र पर ताला लटका व केन्द्र की बदतर हालत को देखा तो भड़क गए। उन्होनें ग्रामीणों से पुछताछ की तो उन्हें इस केन्द्र के अक्सर बंद रहने की जानकारी मिली। इसके बाद विधायक वहीं अस्पताल गेट के बाहर जमा एक बालू के ढेर पर धरना पर बैठ गए। यह बात तुरंत पुरे पिहरा में फैल गई और देखते-देखते वहां ग्रामीणों व विधायक के समर्थकों का हुजूम जमा हो गया व विधायक के संग दर्जनों ग्रामीण भी धरना पर बैठ गए।

तीन घंटे बाद सीएस के आश्वासन पर टूटा धरना:

अस्पताल गेट पर विधायक के धरना पर बैठ जाने की सूचना मिलते ही गावां के चिकित्सा प्रभारी गावां सीएसची से एक चिकित्सक की टीम को लेकर मौके पर पहूंचे व विधायक को मनाने की नाकाम कोशिश की। परंतु विधायक अस्पताल के दुर्दशा पर काफी आक्रोशित थे व चिकित्सा प्रभारी को भी खुब खरी-खोटी सुनाया। बाद में चिकित्सा प्रभारी ने सीएस से दुरभाष पर बात कर समस्या बताई व सीएस ने पिहरा के अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को वैकल्पिक व्यवस्था के तहत सप्ताह में दो दिन मंगलवार व शुक्रवार को गावां पीएचसी के चिकित्सक को प्रतिनियुक्त करने का आश्वासन पर विधायक ने धरना समाप्त किया।

आनन-फानन में शुरू हुआ मरीजों का इलाज:

अस्पताल गेट पर विधायक के धरने पर बैठने के बाद मौके पर भारी संख्या में ग्रामीण और मरीज जमा हो गए थे। मौके पर मरीजों को आनन-फानन में गावां सीएससी से पहूंची चिकित्सा टीम ने इलाज किया।

मरीजों का इलाज करते गावां के चिकित्सा प्रभारी

 

स्थाई चिकित्सक की नियुक्ती नहीं होने पर करेंगे भुख हड़ताल:

विधायक ने गावां सीएचसी के चिकित्सक नवीन कुमार के देवरी में प्रतिनियुक्त किए जाने पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि गावां में जब खुद चिकित्सकों की कमी के कारण अस्पताल में ताला लटका है तो फिर किस परिस्थिति में यहां के एक चिकित्सक नवीन कुमार को देवरी में प्रतिनियुक्त किया गया है। कहा की गावां प्रखंड मलेरिया को लेकर हाई रिस्क जोन घोषित है। वावजूद चिकित्सा व्यवस्था का लचर होना दुर्भाग्यपूर्ण है। अगर पिहरा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में 4 दिसंबर तक चिकित्सक की व्यवस्था की अस्पताल को सुचारू नहीं किया गया तो मैं स्वयं 5 दिसंबर से भुख हड़ताल पर बैठ जाउंगा।

    Tags:

यह भी देखें