Breaking News

चरणजीत सिंह चन्नी के शपथ ग्रहण से पहले हरिश रावत के बयान से पंजाब कांग्रेस में नया विवाद शुरू

विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पंजाब कांग्रेस विवादों से जूझ रही है। कैप्टन अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के शपथ ग्रहण से पहले पंजाब कांग्रेस में एक नया विवाद शुरू हो गया है। यह विवाद प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी हरिश रावत के बयान से शुरू हुआ, जिसमें उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव नवजोत सिंह सिद्धू के नेतत्व में लड़े जाएंगे।

Harish Rawat.

चंडीगढ : विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पंजाब कांग्रेस विवादों से जूझ रही है। कैप्टन अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के शपथ ग्रहण से पहले पंजाब कांग्रेस में एक नया विवाद शुरू हो गया है। यह विवाद प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी हरिश रावत के बयान से शुरू हुआ, जिसमें उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव नवजोत सिंह सिद्धू के नेतत्व में लड़े जाएंगे।

पंजाब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुनील जाखड़ ने इस पर सवाल उठाया। सुबह उन्होंने ट्वीट कर कहा कि चरणजीत सिंह चन्नी के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण के दिन हरिश रावत का यह कहना कि चुनाव सिद्धू के नेतृत्व में लड़ा जाएगा, चौंकाने वाला है। यह मुख्यमंत्री के अधिकारों को कमजोर करने की संभावना है, साथ ही इस पद के लिए उनके चयन को भी नकारना है।


इससे पहले कल चरणजीत सिंह चन्नी का मुख्यमंत्री पद के लिए चयन के हाइकमान के फैसले पर सुनील जाखड़ ने साकारात्मक प्रतिक्रिया दी थी। उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि राहुल गांधी के इस साहसिक निर्णय ने न केवल काग्रेस कार्यकर्ताओं को रोमांजित किया, बल्कि आकालियों की रीढ में कंपकपी पैदा कर दी।


मालूम हो कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 18 सितंबर को भारी मन से अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि इस्तीफे के बाद उन्होंने कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू ने यह सबकुछ मुख्यमंत्री बनने के लिए किया था और वे उसे मुख्यमंत्री बनाने का विरोध करेंगे। कैप्टन ने कहा था कि सिद्धू के रिश्ते पाकिस्तान से हैं और उसका मुख्यमंत्री बनना पंजाब व देश की सुरक्षा से जुड़ा मसला है, इसलिए वे इसे कभी स्वीकार नहीं करेंगे।

कैप्टन के इस बयान के बाद सिद्धू के मुख्यमंत्री बनने की संभावना खत्म हो गयी। सिद्धू प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद लगातार अपने ही मुख्यमंत्री को प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से सवालों के जरिए घेर रहे थे। सिद्धू ने अपना राजनीतिक उतवलापन व महत्वाकांक्षा का हमेशा खुला प्रदर्शन किया। उन पर कैप्टन के द्वारा सवाल उठाए जाने के बाद इस मामले को लेकर भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी एवं प्रियंका गांधी से स्पष्टीकरण की मांग की है।

यह भी देखें