Breaking News

लालू के प्रस्ताव पर चिराग पासवान ने दी सधी प्रतिक्रिया, बोले – मैं भावनाओं को सम्मान करता हूं, लेकिन नहीं खोले पत्ते

Chirag Pawan File Photo.

नयी दिल्ली : लोजपा नेता चिराग पासवान ने राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के उस बयान पर सधी प्रतिक्रिया दी है, जिसमें उन्होंने अपने पुत्र तेजस्वी यादव व चिराग को साथ आने को कहा था। चिराग पासवान ने कहा है कि वे उनकी भावनाओं का सम्मान करते हैं, लेकिन अभी आशीर्वाद यात्रा पर हैं और इस वक्त उनका पूरा ध्यान यात्रा पर ही है।

चिराग पासवान ने यह भी कहा कि उन्होंने बिहार में गिरती कानून व्यवस्था पर राज्यपाल से मुलाकात की और उन्हें इसकी जानकारी दी है। इस पर राज्यपाल ने आश्वासन दिया है कि वे इस विषय पर बात करेंगे।

चिराग पासवान द्वारा लालू प्रसाद यादव के राजद से गठजोड़ की पेशकश पर पत्ते नहीं खोलने को उनकी सधी राजनीति मानी जा रही है। इससे यह भी संकेत मिलता है कि 2024 के लिए उनकी प्राथमिकता उस गठबंधन के साथ जाने की हो सकती है जिसका पलड़ा भारी हो। चिराग का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मोहभंग अभी नहीं हुआ है, भले ही उनकी सरकार मे ंउनके खिलाफ बगावत करने वाले उनके चाचा पशुपति पारस को जगह मिल गयी हो।

लालू प्रसाद यादव जेल से बाहर आने के बाद लगातार प्रमुख नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। उन्होंने मुलायम सिंह यादव व उनके बेटे अखिलेश यादव एवं शरद यादव से मुलाकात की है। लालू आज सुबह दिल्ली में शरद यादव से उनके आवास पर अपनी सांसद बेटी मीसा भारती के साथ मिले।

लालू प्रसाद यादव ने कहा है कि वे चाहते हैं कि दोनों तेजस्वी यादव एवं चिराग पासवान साथ आएं, लोग उनके आसपास इकट्ठा होंगे। लालू ने यह भी कहा है कि लोजपा में पूर्व में जो कुछ भी हुआ हो युवा सांसद एक नेता के रूप में उभरेंगे। इसकी संभावना मजबूत है कि चुनाव के समय रामविलास पासवान के समर्थक पशुपति पारस के बजाय चिराग के समर्थन में ही आएंगे।

ऐसे में राजद व लोजपा का गठजोड़ पिछड़ा-दलित समीकरण को मजबूत कर सकता है। लालू प्रसाद यादव की पार्टी के साथ पहले से मुसलिम वोट है। अगर भविष्य में दोनों युवा नेता साथ आते हैं तो ये एनडीए के लिए अधिक मजबूत चुनौती हो सकती है।

यह भी देखें