Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

अलचिकी लिपि के प्रयोग के लिए दिसोम मरांग बुरु युग जाहेर आखड़ा ने स्वामी जी को सौंपा स्मार पत्र

0

- sponsored -

- Sponsored -

रानीश्वर (दुमका) : दिसोम मरांग बुरु युग जाहेर आखड़ा, दुमका के दो सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल ने शनिवार को भारत सेवाश्रम संघ, दुमका शाखा के पाथरा स्थित आश्रम पहुंच कर स्वामी नित्यव्रतानंद महाराज को स्मार पत्र सौंपा है। आखड़ा के सचिव मंगल मुर्मू एवं पगान हेम्ब्रम ने स्वामी प्रणवानंद विद्या मंदिर के सचिव सह आश्रम के स्वामी नित्यव्रता नंद को स्मार पत्र देकर आश्रम में अलचिकी लिपि में लेखन कराने की आग्रह किया है।

- Sponsored -

साथ ही आश्रम के छात्र-छात्राओं को पूर्व से ही अलचिकी लिपि में संताली भाषा की शिक्षा देने को लेकर स्वामी जी का आभार प्रकट किया है। स्वामी जी ने बताया कि यहां आश्रम में 2006 से ही आवासीय विद्यालय में अलचिकी लिपि में पढाई होती है। आश्रम में बांग्ला, हिंदी एवं अंग्रेजी में नाम लेखन कराया गया है। आश्रम एवं विद्यालय का रंगरोगन का कार्य हो रहा है। रंगाई के बाद यहां अलचिकी लिपि में भी लेखन कराया जायेगा।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -