Breaking News

पंजाब : मुख्यमंत्री पद से अमरिंदर ने दिया इस्तीफा, लेकिन नवजोत सिद्धू को सीएम बनाने को बताया राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा

चंडीगढ़ : पंजाब के मुख्यमंत्री पद से कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार, 18 सितंबर 2021 की शाम इस्तीफा दे दिया। राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और उनकी मंत्रिपरिषद का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। कैप्टन ने शनिवार शाम करीब साढ़े चार बजे अपना और अपने मंत्रिपरिषद का इस्तीफा राज्यपाल को सौंपा था।

इससे पहले कैप्टन ने एक प्रेस कान्फ्रेंस कर अपना पक्ष रखा और कहा कि हाइकमान ने उन्हें नहीं समझा।अमरिंदर सिंह ने कहा, आज सुबह जब सोनिया गांधी को उन्होंने अपने इस्तीफे के बारे में बताने के लिए फोन किया, तो उन्होंने उन्हें कहा – आई एम सॉरी अमरिंदर। अमरिंदर ने मीडिया से बातचीत करते हुए स्पष्ट कहा कि सिद्धू का उद्देश्य मुख्यमंत्री बनना ही है। उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस हाइकमान उन्हें मुख्यमंत्री का चेहरा बनाने का निर्णय लेता है तो वे उसका विरोध करेंगे क्योंकि यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा है।

कैप्टन ने कहा कि उन्हें पता है कि उसके पाकिस्तान के साथ कैसे संबंध हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इसका दोस्त है, जनरल बाजवा के साथ इसकी दोस्ती है। उन्होंने कहा कि अगर वे सिद्धू को मुख्यमंत्री का चेहरा बनाने का विरोध करेंगे।

कैप्टन ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू मेरा मंत्री था, पर उसे बाहर करना पड़ा। सात महीने तक अपनी फाइलें क्लियर नहीं की। क्या इस तरह का आदमी जो एक विभाग नहीं संभाल सकता है तो एक राज्य संभाल सकता है। उन्होंने कहा कि सिद्धू बाजवा व इमरान खान के साथ है। रोज कश्मीर में हमारे जवान मारे जा रहे हैं। आपको लगता है कि सिद्धू के नाम को स्वीकार करूंगा।

राज्यपाल ने कैप्टन और उनकी मंत्रिपरिषद को वैकल्पिक व्यवस्था होने तक नियमित कामकाज के लिए अपने पद पर बने रहने के लिए कहा है।

 

अमरिंदर के अगले कदम पर निगाहें

जिस तरह कैप्टन को पद छोड़ना पड़ा है उससे अब उनके अगले कदम को लेकर अटकलें लगायी जा रही हैं। एक तबके का मानना है कि वे नयी पार्टी बना सकते हैं, वहीं यह भी संभावना है कि आम आदमी पार्टी से हाथ मिला सकते हैं। इन चर्चाओं के बीच कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, मैं कांग्रेस पार्टी में हूं और अपने साथियों से बात करूंगा। उसके बाद हम आगे की राजनीति के बारे में निर्णय लेंगे। ये उनकी मर्जी़ है जिसको मर्ज़ी हो मुख्यमंत्री बनाएं। अमरिंदर सिंह ने फिलहाल किसी अन्य से बातचीत जारी होने से इनकार किया है।


उधर, पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरिश रावत ने कहा है कि पंजाब कांग्रेस में सभी ने कहा है कि हम अपनी पुरानी परंपरा का पालन करते हुए चाहते हैं कि पहले की तरह कांग्रेस अध्यक्ष कांग्रेस विधायक दल के नेता का चयन करें। यानी सोनिया गांधी ही पंजाब के अगले मुख्यमंत्री पर निर्णय लेंगी, जिस पर सीधे तौर पर राहुल गांधी की छाप होगी।

यह भी देखें