Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

एक रुपया मुहिम की संचालिका सीमा वर्मा आज किसी पहचान कि मोहताज नहीं

0

- Sponsored -

- sponsored -

अपने जन्मदिन के अवसर पर विनोबा नगर, मैग्नेटो मॉल रोड, ताला पारा में बच्चों को कॉपी व स्लेट, स्टेशनरी का सामान किया वितरित

सीमा समाज से अपील करती हैं अपने जन्म दिवस के अवसर पर केक चॉकलेट मिठाई देने के बजाय बच्चों को स्टेशनरी डोनेट करें। बच्चों को एजुकेशन से जोड़ने का प्रयास करें।

- Sponsored -

सीमा वर्मा, बिलासपुर शहर के कौशलेंद्र राव कॉलेज में एलएलबी अंतिम वर्ष की छात्रा है। सीमा पिछले 5 सालों में 13 हज़ार से अधिक स्कूली बच्चों के लिए स्टेशनरी सामग्री उपलब्ध करवा चुकी हैं और 34 स्कूली बच्चों की पढ़ाई का एक खर्च भी उठा रही हैं, बच्चे जब तक 12वी तक कि शिक्षा प्राप्त नहीं कर लेते। इस समय सीमा 50 बच्चों को निःशुल्क शिक्षा दे रही हैं।

मूलतः छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर की रहने वाली सीमा अपनी पढ़ाई के साथ एक रुपया मुहिम भी चलाती है। इस मुहिम के ज़रिए सीमा जरूरतमंद और गरीब बच्चों की मदद करती है।

सीमा कहती हैं: यह कार्य युवाओं को मोटिवेट करने के लिए भी करती हैं। बच्चों को गुड टच, बैड टच, पॉक्सो एक्ट, मौलिक अधिकारों, बाल विवाह की जानकारी देती हैं। राइट टू एजूकेशन, बाल मजदूरी पर अवेयरनेस प्रोग्राम का भी वे संचालन करती हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -