Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

ममता बनर्जी के गोत्र पर बवाल, ओवैसी बोले – तृणमूल व भाजपा सांप्रदायिक राजनीति कर रही है

0

- sponsored -

- Sponsored -

कोलकाता : पश्मिच बंगाल के चुनाव में इस बार जाति, धर्म और गोत्र चर्चा के केंद्र में आ गया। यह बहुत कुछ पिछले गुजरात चुनाव की तरह है जब राहुल गांधी की जाति और गोत्र उनकी पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बताते हुए उन्हें जनेउधारी बताया था। अब ममता बनर्जी इस चुनाव में धार्मिक पाठ करती तो दिखीं ही साथ ही उन्होंने अपना गोत्र भी बताया है। ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि उनका गोत्र शांडिल्य है, जिस पर एमआइएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने प्रतिक्रिया दी है और कहा है कि वे भाजपा के साथ राजनीति का सांप्रदायिकीकरण कर रही हैं।

ओवैसी ने कहा कि ममता बनर्जी के द्वारा खुद को उच्च जाति का बताना निंदनीय है। उन्होंने कहा कि मुसलिम और दलित कहंा जाएं जो वर्ण व्यवस्था का हिस्सा नहीं हैं। उन्होंने कहा कि वे पीएम मोदी और भाजपा के सांप्रदायिक राजनीति में शामिल हो गयी हैं। वे दोनों एक दूसरे के लिए बने हैं।

- Sponsored -

मालूम हो कि मंगलवार को ममता बनर्जी ने एक जनसभा में खुद का गोत्र शांडिल्य बताया था। उन्होंने कहा कि अपने दूसरे चुनाव अभियान के दौरान वे एक मंदिर गयीं तो वहां के पुजारी ने उनका गोत्र पूछा तो उन्होंने मां, माटी व मानुष बताया। यह उन्हें अपने त्रिपुरा दौरे की याद दिलाता है जहां वे त्रिपुरेश्वरी मंदिर गयीं थीं तो पुजारी ने उनका गोत्र पूछा था तब उन्होंने मां, माटी और मानुष बताया था, वास्तव में उनका गोत्र शांडिल्य है।

ममता बनर्जी के द्वारा खुद का गोत्र बताए जाने पर भाजपा नेता व केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भी चुटकी ली है। उन्होंने कहा है कि दीदी आज अपना गोत्र बता रही हैं तो इस गोत्र वालों पर इतना अन्याय क्यों किया। गिरिराज सिंह ने कहा कि वे चुनाव खत्म होने तक सड़कं पर बैठकर चंडी पाठ करती भी नजर आ सकती हैं।

 

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored