Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

#Telangana कोरोना महामारी का असर, तेलंगाना में कर्मचारियों-जनप्रतिनिधियों के वेतन में भारी कटौती

63

- sponsored -

- Sponsored -

हैदराबाद : तेलंगाना की के चंद्रशेखर राव सरकार ने कोरोना महामारी को देखते हुए अपने कर्मचारियों व राज्य के जनप्रतिनिधियों के वेतन में भारी कटौती का निर्णय लिया है. राज्य सरकार का मानना है कि लाॅकडाउन की वजह से राजस्व की वसूली में भारी कमी आयी है और इससे खजाने की स्थिति संकटपूर्ण हो गयी है और ऐसे में वेतन कटौती इस मुश्किल से लड़ने का एक सार्थक उपाय है. के चंद्रशेखर राव की सरकार इस महीने सभी सरकारी कर्मचारियों, अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के वेतन में 25 से 75 प्रतिशत तक की कटौती करेगी.

राज्य सरकार ने तय किया है कि रिटायर्ड कर्मचारियों और अधिकारियों की पेंशन में भी 50 प्रतिशत की कटौती की जाएगी. प्राप्त जानकारी के अनुसार, आइएएस, आइपीएस व आइएफएस अफसरों की तनख्वाह 40 प्रतिशत तक कम मिलेगी. वहीं, राज्य की दूसरी श्रेणी के अफसर आधी सैलरी पाएंगे. वहीं, चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियों को 10 प्रतिशत कम वेतन दिया जाएगा.

- Sponsored -

- Sponsored -

मुख्यमंत्री, मंत्री, बोर्ड-निगम के चेयरमैन, विधायक व विधान परिषद सदस्य, स्थानीय निकाय के सदस्यों के वेतन में 75 प्रतिशत तक की कटौती की जाएगी. तेलंगाना सरकार को विभिन्न मद से हर महीने सात हजार करोड़ रुपये का राजस्व मिलता था, लेकिन लाॅकडाउन की वजह से इस बार चार हजार करोड़ की राजस्व वसूली ही हो पायी है. ऐसे में सबकी सैलरी में कटौती का निर्णय लिया गया है. महाराष्ट्र ने भी चतुर्थ वर्गीय कर्मी छोड़ कर सभी के वेतन में कटौती का निर्णय लिया है.

संभव है इन दोनों राज्यों को देखते हुए अन्य राज्य सरकारें भी सैलरी में कटौती का फैसला लें.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored