कोविड की तुलना में वायु प्रदूषण ने अधिक लोगों की जान ली है : डॉ अरविंद कुमार

हाल में दिवाली के त्यौहार के दौरान एक बार फिर दिल्ली के बढे प्रदूषण स्तर को लेकर चिंताएं हर ओर से जाहिर की जा रही हैं। हालांकि दिल्ली की यह समस्या लगभग स्थायी हो चुकी है। आइसीएस-मेदांता के चेयरमैन डॉ अरविंद कुमार ने कहा है कि वायु प्रदूषण ने कोविड की तुलना में अधिक लोगों की जान ली है।

Dr Arvind Kumar. ANI Photo.

नयी दिल्ली : हाल में दिवाली के त्यौहार के दौरान एक बार फिर दिल्ली के बढे प्रदूषण स्तर को लेकर चिंताएं हर ओर से जाहिर की जा रही हैं। हालांकि दिल्ली की यह समस्या लगभग स्थायी हो चुकी है। आइसीएस-मेदांता के चेयरमैन डॉ अरविंद कुमार ने कहा है कि वायु प्रदूषण ने कोविड की तुलना में अधिक लोगों की जान ली है।

वायु प्रदूषण पर बात करते हुए उन्होंने न्यूज एजेंसी एएनआइ से कहा, स्मॉग टॉवर लगाना पैसे की बर्बादी है और एक बड़ी गलती होगी। उन्होंने कहा कि बेहतर होगा कि वायु को प्रदूषित होने से बचाने पर जोर दिया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड महामारी की तुलना में वायु प्रदूषण ने अधिक लोगों की जान ली है।

डॉ अरविंद कुमार ने कहा कि लंग केयर फाउंडेशन में हमारे अध्ययन के अनुसार, 50 प्रतिशत से अधिक किशोरों में छाती की बीमारी के लक्षण हैं, 29 प्रतिशत को अस्थमा होता है। 29 प्रतिशत में अस्थमा होता है, 40 प्रतिशत मोटापे से ग्रस्त होते हैं, जिनमें अस्थमा का खतरा 200 प्रतिशत अधिक होता है। उन्होंने कहा कि वायु प्रदूषण के नतीजे बच्चे भुगत रहे हैं।

यह भी देखें