Breaking News

पर्यावरण

रिपोर्ट में कुछ सकारात्मक विकासों को भी नोट किया गया है, जैसे कि 2020 में स्थापित क्षमताओं के नए रिकॉर्ड के साथ G20 सदस्यों के बीच सौर और पवन ऊर्जा की वृद्धि। ऊर्जा आपूर्ति में रिन्यूएबल ऊर्जा की हिस्सेदारी 2020 में 10% से बढ़कर 2021 में 12% होने का अनुमान है।

क्लाइमेट सेंट्रल नाम के एक गैर-लाभकारी समाचार संगठन ने कुछ हैरान करने वाली फ़ोटोज़ का एक सेट जारी किया है जो दिखाता है कि अगर जलवायु परिवर्तन संकट से निपटा नहीं गया तो दुनिया भर के कुछ सबसे प्रतिष्ठित स्थलों का क्या होगा।

ग्‍लासगो में अगले महीने आयोजित होने जा रही सीओपी26 बैठक में ‘नेट जीरो’ के लक्ष्‍य को लेकर खास चर्चा की सम्‍भावनाओं के बीच विशेषज्ञों का मानना है कि दुनिया के विभिन्‍न देशों को ‘नेट जीरो’ के साथ-साथ अपने अल्‍पकालिक लक्ष्‍यों की प्राप्ति के लिये ठोस कार्ययोजना बनाकर काम करना चाहिये। वैश्विक स्‍तर पर जनहित से

विशेषज्ञों का मानना है कि दुनिया के ज्‍यादातर देश वायु गुणवत्‍ता सम्‍बन्‍धी पुराने मानकों का ही पालन करने में नाकाम रहे हैं। ऐसे में विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन द्वारा वायु गुणवत्‍ता के सम्‍बन्‍ध में जारी नये मानकों का पालन बहुत कड़ी चुनौती है। भारत जैसे देश को अगर इन मानकों पर खरा उतरना है तो उसे बहुक्षेत्रीय रवैया अपनाते हुए अधिक सुगठित, सुव्‍यवस्थित और समयबद्ध कदम उठाने होंगे। साथ ही मौजूदा नीतियों में जरूरी बदलाव करते हुए उनके प्रभावी क्रियान्‍वयन पर भी ध्‍यान देना होगा।

कोविड से उबरने के लिए WHO ने किये जलवायु कार्रवाई के दस आह्वान, बड़ी स्वास्थ्य आपदा को टालने के लिए वैश्विक स्वास्थ्य कार्यबल ने किया वैश्विक कार्रवाई का आग्रह

लिविंग इन हार्मनी विद नेचर के 2050 के लक्ष्य लेकर बढ़ेगा कल से चीन में वर्चुअल रूप से शुरू होने वाला यह जैव विविधता महा सम्मलेन मानव इतिहास में किसी भी वक़्त की तुलना में हम आज सबसे तेज़ी से जैव विविधता खो रहे हैं। इस घटनाक्रम पर लगाम कसने के लिए वैश्विक स्तर पर

राहुल सिंह की रिपोर्ट खनन क्षेत्र के विस्थापितों व कोयला श्रमिकों के बीच सक्रिय राजनीतिक कार्यकर्ता अरुण कुमार महतो यह स्वीकार करते हैं कि कोयला व्यापक विस्थापन और प्रदूषण का कारण है, लेकिन उनकी चिंता इससे कहीं अधिक अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले इसके अच्छे-बुरे असर को लेकर है। झारखंड के देवघर जिले के चितरा कोयला

एक नई रिपोर्ट बताती है कि पर्यावरण को केंद्र में रखते हुए महामारी के बाद आर्थिक रिकवरी से मिलेंगे अधिक रोज़गार, लम्बी अवधि में विकास को मिलेगा बढ़ावा, और बचाये जा सकेंगे तमाम जीवन। बच्चों के इन्वेस्टमेंट फण्ड फाउंडेशन, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी इकोनॉमिक रिकवरी प्रोजेक्ट, और विविड इकोनॉमिक्स की एक नई रिपोर्ट के मुताबिक पर्यावरण को

हॉट ऒर कूल इंस्टीट्यूट द्वारा किये गये एक नए शोध में पाया गया है कि G20 समूह में विश्लेषण किए गए सभी देशों ने 2050 के लिए जनजीवन से जुड़े कार्बन पदचिह्न को पार कर लिया है और इसमें तेज़ी से और आमूल-चूल कटौती की ज़रूरत है। सिर्फ व्यक्तिगत व्यवहार परिवर्तनों पर ध्यान केंद्रित करना इन कटौती को प्राप्त

झारखंड के देवघर जिला में स्थित चितरा कोयला खदान एक बहुत ही पुरानी कोयला खदान है। 1974 में इसका अधिग्रहण सरकार ने कर लिया था। यहां पर होने वाले कोयला खनन से यूं तो कई गांव प्रभावित हुए हैं, लेकिन सबसे अधिक प्रभाव खून गांव पर पड़ा है। पढिए यह ग्राउंड रिपोर्ट कि खून गांव की क्या स्थिति है, वहां के लोग क्या चाहते हैं और उनके मुद्दे क्या हैं...