Breaking News

लघु उद्योगों की समस्याओं पर उद्योग विभाग कोई विचार नहीं कर रहा: JSIA

झारखण्ड सरकार केवल बाहरी बड़े निवेशकों को आमंत्रित करने में रुचि दिखा रही यहां पहले से झारखण्ड में कार्य कर रहे लघु उद्योगों की समस्याओं पर उद्योग विभाग कोइ विचार नहीं कर रहा

JSIA

राँची : झारखण्ड लघु उद्योग संघ का कहना है कि झारखण्ड सरकार केवल बाहरी बड़े निवेशकों को आमंत्रित करने में रुचि दिखा रही यहां पहले से झारखण्ड में कार्य कर रहे लघु उद्योगो की समस्याओं पर उद्योग विभाग कोइ विचार नहीं कर रहा। उनका कहना है कि 2016 से ही सबसीडी से संबंधीत कई फाइलें उद्योग विभाग में लटकी पड़ी है।

कोरोना के वजह से हुए लॉकडाउन में कइ लघु उद्योग बंद होने के कागार पर है। उन्हें न किसी तरह की सरकार  से सहायता प्रप्त हो रही है, अपितु उर्जा विभाग द्वारा उल्टा बिजली के बील में भी इजाफा कर दिया गया है। झारखण्ड लघु उद्योग संघ के सचिव अजय पचेरीवाला ने इस मामले से संबंधित कहा है कि उद्योग विभाग द्वारा फैक्टरी के लाइसेंस जारी किये जाने में देर की जाती है और पॉल्यूशन सर्टिफिकेट देने में भी देरी होती रही है।

उधर चैंबर औफ कॉमर्स ने भी इसी तरह के मामले को सरकार के संज्ञान में लाते हुए कहा है कि सरकार औद्योगिक विकास हेतु दिल्ली में इन्वेस्टर्स समिट सरकार की एक अच्छी पहल है। लेकिन  उचित होता निवेशकों को आमंत्रण के साथ ही उद्योग विभाग द्वारा वर्तमान समस्याओं के समाधान में भी रुचि दिखाई जाती व स्थानीय संगठनों को सहभागी बनाया जाता। उद्यमियों की समस्याएं नजर अंदाज करना चिंतनीय हैं।

 

सभी मामलो को संज्ञान में लेते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर कहा है कि सरकार एमएसएमई और छोटी इकाइयों के मुद्दों को हल करने के लिए प्रतिबद्ध है। सरकार झारखण्ड को व्यापार के अनुकूल और निवेश को आकर्षित करने की ओर कार्य कर रही है। उन्होंने कहा है कि उद्योग के विकास में घरेलू और बाहरी दोनों निवेशकों की भागीदारी की आवश्यकता है। उनहोंने उद्योग विभाग को सभी मुद्दों की समीक्षा करने और सुधारात्मक कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया।

 

यह भी देखें