Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नैसकॉम टेक्नोलॉजी एंड लीडरशिप फोरम में आइटी उद्योग व वर्क फ्राॅम होम पर क्या बोला?

0

- Sponsored -

- sponsored -

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए नैसकॉम टेक्नोलॉजी एंड लीडरशिप फोरम को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कोरोना महामारी के दौरान आइटी उद्योग की भूमिका, वर्क फ्राॅम होम सहित अन्य मुद्दों पर बोला। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ऐसे समय में जब दुनिया भारत को पहले से अधिक भरोसे व उम्मीद से देख रही थी, तब हमारे ज्ञान-विज्ञान व तकनीक ने खुद को साबित किया है। आज हम दुनिया के अनेकों देशों को मेड इन इंडिया वैक्सीन दे रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आइटी सेक्टर ने अपने पैर दुनिया में कई साल पहले ही जमा दिए थे। हमारी सरकार जानती है कि बंधनों में भविष्य की लीडरशिप विकसित नहीं हो सकती है। इसलिए सरकार द्वारा आइटी सेक्टर को अनावश्यक बंधनों से बाहर निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि जब हर सेक्टर कोरोना से प्रभावित था, तब भी इस सेक्टर ने दो प्रतिशत की ग्रोथ हासिल की। जब डी ग्रोथ की आशंका जतायी जा रही थी, तब भी अगर भारत की आइटी इंडस्ट्री अपने रेवेन्यू में चार बिलियन डाॅलर और जोड़े तो ये सचमुच प्रशंसनीय है। उन्होंने कहा कि कोरोना के दौरान आइटी उद्योग ने लाखों नए रोजगार देकर खुद को साबित किया कि वो भारत के विकास का मजबूत पिलर क्यों हैं।

- Sponsored -

पीएम मोदी ने कहा कि नया भारत हर भारतवासी की प्रगति के लिए अधीर है। हमारी सरकार नए भारत के युवाओं की इस भावना को समझती है। 130 करोड़ से अधिक भारतवासियों की आकांक्षाएं हमें तेजी से आगे बढने के लिए प्रेरित करती हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि आज 90 प्रतिशत से अधिक लोग अपने घरों से काम कर रहे हैं। कुछ लोग तो अपने गांव से काम कर रहे हैं। यह अपने आप में बड़ी ताकत बनने वाला है। दो दिन पहले ही एक नीति में सुधार किया गया है। मैप पर जियो स्पेशल डेटा को कंट्रोल से मुक्त कर इसे उद्योग के लिए खोला गया है। जितना डिजिटल ट्रांसजेक्शन होता जा रहा है, उतने ही काले के स्रोत कम हो रहे हैं। पारदर्शिता गुड गवर्नेंस की सबसे अहम शर्त होती है। यही बदलाव अब देश की शासन व्यवस्था पर हो रहा है। यही कारण है कि हर सर्वे में भारत सरकार पर जनता का भरोसा मजबूत से मजबूत होता जा रहा है।

आत्मनिर्भर भारत के बड़े सेंटर आज देश के टियर – 2, टियर – 3 शहर बनते जा रहे हैं। यही छोटे आज आइटी बेस्ड तकनीक की डिमांड और ग्रोथ के बड़े सेंटर बनते जा रहे हैं। देश के इन छोटे शहरों के युवा अद्भुत इनोवेटर के रूप में सामने आ रहे हैं। उन्होंने आइटी प्रोफेशनल से कहा कि आप ने यह सुनिश्चित किया है कि हमारी तकनीक ज्यादा से ज्यादा मेड इन इंडिया हो। अगर हमें भारतीय तकनीक में आगे बढना है तो इसके लिए हमें अपनी प्रतिस्पर्धा के लिए नए मापदंड बनाने होंगे। हमें अपने आप से प्रतिस्पर्धा करनी होगी।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored

- Sponsored -